Asia Cup 2023: ऑस्ट्रेलिया के पूर्व स्टार का कहना है कि सूर्यकुमार यादव बेहद भाग्यशाली ,आकाश ने खोला माही का राज

Asia Cup 2023: ऑस्ट्रेलिया के पूर्व स्टार का कहना है कि सूर्यकुमार यादव बेहद भाग्यशाली ,आकाश ने खोला माही का राज

मूडी (Moody) के अनुसार, वह मेगा इवेंट के लिए मेन इन ब्लू टीम में यशस्वी जयसवाल(Yashasvi Jaiswa) जैसे युवा स्टार को शामिल करना चाहेंगे।

उनका कहना है कि सूर्यकुमार यादव (Suryakumar Yadav) का ओडीआई फॉर्मेट में कुछ अच्छा प्रदर्शन अभी तक नहीं दिख पाया है वह एक T20 के नंबर वन बल्लेबाज हैं लेकिन ओडीआई फॉर्मेट उनका ओषत अच्छा नहीं है। उनको ऑडी फॉर्मेट में ऐसी बहुत सारे मौके मिले लेकिन उनके बल्ला खामोश रहा हैं। सूर्यकुमार यादव का टीम इंडिया में चयन होना एक बड़े इवेंट के लिए उनके लिए एक भाग्य साबित हो सकता है। उन पर भारतीय टीम का विश्वास उनको शायद आगे अच्छे खेलने में मदद करेगी।

वहीं यशस्वी जयसवाल जिन्होंने वेस्टइंडीज के दौरे पर अपना डेब्यू किया उन्होंने वेस्टइंडीज दौरे में बेहद अच्छे पहाड़ियां खेलें। टेस्ट मैच में डेब्यू करते हुए उन्होंने 171 रनों की पहाड़िया खेली और दो मैचों की तीन पहाड़ियों में 88.67 की ओशत से 266 रन बनाए। T20 मैच में देबू करते हुए 84 रनों की एक बेहद अच्छे पड़ी को अंजाम दिया और पांच पहाड़ियों में 33 की औसत से 132 रन बनाए। हालांकि अभी तक वह ओडीआई फॉर्मेट में डेब्यू नहीं किए हैं। शायद यही वजह से उनको एशिया कप के लिए नहीं चुना गया।

भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज से विशेषज्ञ बने आकाश चोपड़ा (Aakash Chopra) ने हाल ही में अपने आधिकारिक यूट्यूब चैनल पर युवा एमएस धोनी (MS Dhoni) के बारे में एक प्यारा किस्सा साझा किया है। उस समय धोनी एक उभरते हुए क्रिकेटर थे और किसी ने नहीं सोचा था कि वह भविष्य में दुनिया के सबसे महान क्रिकेटरों और कप्तानों में से एक बनेंगे।

चोपड़ा और धोनी दोनों जिम्बाब्वे और केन्या दौरे पर गई भारत ए टीम का हिस्सा थे। दौरे के दौरान रूममेट के रूप में, चोपड़ा धोनी की उपस्थिति से आश्चर्यचकित थे। उस दौरान युवा विकेटकीपर के बाल लंबे थे।

चोपड़ा ने युवा धोनी, जो उनके जूनियर थे, को सुझाव दिया था कि उन्हें क्रिकेट में अधिक गंभीरता से लिए जाने के लिए अपने बाल कटवा लेने चाहिए। हालांकि, इसके जवाब में धोनी ने दृढ़तापूर्वक मना करते हुए कहा, ‘मैं अपने बाल नहीं काटने जा रहा हूं, शायद मुझे देखकर लोग अपने बाल बढ़ा लेंगे।’

तब किसी को भी अंदाजा नहीं था कि धोनी का हेयरस्टाइल अंततः एक राष्ट्रव्यापी प्रवृत्ति बन जाएगा, खासकर तब जब उन्होंने 2007 में शुरुआती टी20 विश्व कप में युवा भारतीय टीम की कप्तानी करके उसे जीत दिलाई थी।

धोनी ने अगस्त 2020 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले लिया। हालांकि, उन्होंने अपने पीछे एक विरासत छोड़ी जिसमें भारत के महानतम क्रिकेटरों में से एक और दुनिया के सर्वश्रेष्ठ सीमित ओवरों के कप्तानों में से एक होना शामिल है। वह आईसीसी के सभी तीन प्रमुख सीमित ओवरों के आयोजनों में अपनी टीम को जीत दिलाने वाले एकमात्र कप्तान बने हुए हैं। यह घटना निश्चित रूप से धोनी के खुद के प्रति दृढ़ संकल्पक दर्शाती है।

महेंद्र सिंह धोनी ने क्रिकेट जगत में जो देश के लिए किया है, वह शायद ही कोई और कर पाएगा महेंद्र सिंह धोनी एक इकलौते ऐसे विकेटकीपर बल्लेबाज और कप्तान है जिन्होंने कप्तानी बल्लेबाजी और विकेटकिप्रिंग तीनों में अपना एक अलग रिकॉर्ड बना चुके हैं मैं बल्लेबाजी करते हुए फिनिशर का रोल निभाया और कई सारे मैचे जिताए है। उन्होंने विकेटकिप्रिंग करते हुए सबसे फास्ट स्टंप का रिकॉर्ड बनाए हुए हैं जो की 0.08 सेकंड है शायद ही इस रिकॉर्ड को कोई तोड़ पाएगा और उन्होंने कप्तानी करते हुए हमें तीनों फॉर्मेट ट्रॉफी जीते हुए हैं जैसे ओडीआई वर्ल्ड कप, एशिया कप, T20 वर्ल्ड कप और टेस्ट चैंपियनशिप।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top